Audition script 7

0
173

AUDITION
*************
Dialogue script of
Lady Principal

Lady Principal:
मैं एक कॉलेज की प्रिंसिपल हूँ। अपने कॉलेज में मैंने ये भी देखा है कि कई लड़कियां अपने बॉय फ्रेंड से बहुत प्यार करती है लेकिन वो इसी प्यार के दौरान चुपके चुपके बहुत सारे लड़कों के साथ सेक्स रिलेशन रखती हैं। i m very sorry to say this but it is a fact. A naked truth. लेकिन मैं अक्सर सोचती हूँ या मुझे ऐसा लगता है कि आज कल की लड़कियों का या यूं कहें कि ओवर मॉडर्न लड़कियों का चॉइस ऑफ लव और टेस्ट ऑफ सेक्स ये दोनों चीजे उनके लिए डिफरेंट इशू हैं। ऐसा मैं सभी लड़कियों के लिए नहीं कहती लेकिन जो लड़कियां प्यार किसी और से, सेक्स किसी और से करती हैं उनके लिए लव और सेक्स अलग अलग चीज हैं। जबकि मैं एक महिला हूँ और मुझे अपने महिला होने का पूरा गौरव है लेकिन ऐसी लड़कियों को देखकर कभी कभी मुझे उन पर कम अपने पर ज्यादा गुस्सा आता हैं। लेकिन कर भी क्या सकते हैं ? समाज के नैतिक पतन को भला कोई अकेले कैसे रोक सकता हैं। ये सुधार स्वजनजागृति से होगा या किसी आंदोलन से। मुझे तो लगता है कि आज कल का प्यार भी जंक फूड जैसा हो गया हैं।जैसे जंक फूड से हेल्थ प्रॉब्लम होती है वैसे ही जंक लव इंस्टेंट सेक्स से भी आने वाले समय मे सामाजिक बुराई के साथ साथ व्यक्तिगत समस्याएं भी पैदा होगी।प्यार के नाम पर सेक्स की आदत लग गई तो आनेवाले दिनों में लड़कियां इस तरह के अपराध करके अपने आपको बचा नही पाएगी। आज आपको भले ही मेरी बात बकवास लग रही हो लेकिन आज के दस साल बाद मेरी यही बात आपको सच लगेगी। और आज भी हालत ऐसे बन चुके है कि प्यार का मतलब धोखा ही होता हैं भले ही वो लड़का लड़की को दे या लड़की लड़के को। आज कल तो लिव इन रिलेशन में जब दो लोग इन करते हैं तो किसी को कुछ पता नहीं चलता। अगर कोई उन्हें लिव इन रिलेशन की बुराई या नुकसान बताएं तो खुद को 21वी शताब्दी का समझदार प्रोग्रेसिव और समझाने वाले को पिछड़ा और दकियानूसी कहा जाता हैं। कुछ महीनो साल के बाद जब लिव इन रिलेशन से कोई आउट होता हैं जहां 100 प्रतिशत लड़कियां ही आउट होती हैं तब वो कितनी लाचार बेबस लूटी पिटी और 21वी शताब्दी की सबसे बेवकूफ लड़की होती हैं। क्या इत्ती छोटी सी बात इन छोटे छोटे कपड़े पहनने वाली लड़कियों के दिमाग में क्यों नहीं आती। लिव इन रिलेशन में रहने की बजाय शादी करके क़ानूनी रूप से सरक्षित रहने का मजा ये पितृसत्ता के खिलाफ फैशनेबुल बोलने वाली लड़कियां क्यों नहीं लेती। ये सुनने में कितनी कोफ़्त होती हैं और गुस्सा भी आता हैं जब निर्भया गैंगरेप के एक दोषी ने बड़ी बेशर्मी से अपने बयान में कहा की रात में लड़कियां घूमेंगी तो रेप होगा ही…

Audition over

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here