Inspirational story of Sanjay Chaudhury

Sanjay chaudhury
संजय चौधरी

 

आप सब दोस्तों को संजय चौधरी का प्यार भरा नमस्कार । आप सब लोगों के प्यार, आशीर्वाद और चाहत ने मुझे आज इस मुकाम तक पहुचाया है लेकिन मुझे मेरी सपनों की मंजिल अभी तक नही मिली हैं, उसी मंजिल को पाने के लिए मेरा संघर्ष जारी है और आप सब की दुवाओं से आशीर्वाद से चाहत से ये मेरा सपना जरूर पूरा होगा।

खैर………..
मैं हरियाणा के जिला फरीदाबाद के मोहला गांव के एक साधारण किसान परिवार का बेटा हूँ।
मेरे पिता जी ने बचपन से ही मेरी पढ़ाई पर विशेष ध्यान दिया ईसलिये मैं हरियाणा बोर्ड तक 12 वी की पढ़ाई करने के बाद,मुझे अभिनय का चस्का लगा जिसकी पूर्ति के लिए मैं दिल्ली आ गया। दिल्ली से मैं mass communication की पढ़ाई के साथ साथ थिएटर भी करता रहा । मैंने अभिनय के प्रति समर्पण की भावना को कितना भी कष्ट आये उस जुनून को कम नही होने दिया और साथ ही साथ पढ़ाई भी करता रहा क्योंकि मुझे मेरे पिताजी ने पढ़ाई के महत्व को बहुत अच्छी तरह से समझाया था।

दिल्ली से पढ़ाई खत्म करने के बाद में अपने सपनों के शहर मुम्बई आ गया। मुम्बई का बॉलीवुड ही मेरी जिंदगी की मंजिल थी, है और रहेगी ।
मुम्बई में मैंने खूब मेहनत की, खूब संघर्ष किया, अपने आप पर अपने भगवान पर अपनी मेहनत पर अपने सपने पर मुझे पूरा विश्वास था और मेरा यह आत्म विश्वास ही मुझे पिछले 5 सालों से मुम्बई में टिकाए हुए हैं।

मुझे पहला ब्रेक यशराज फिल्म्स की फिल्म मेरे डैड की मारुति फिल्म से मिली। एक बार यहां से काम का श्री गणेश होने के बाद तो मुझे फिर पीछे देखने की जरूरत नहीं पड़ीं। मुझे सीरियल से अच्छे अच्छे आफर आने लगे और इसी कड़ी में मैंने लापतागंज, पीटरसन हिल, कृष्ण कन्हैया, नीली छतरी वाले, चिड़ियाघर, खटमल ए इश्क़ जैसे एक से बढ़कर सुप्रसिद्ध सीरियल में अभिनय करने का मौका मिला।

अभिनय ही मेरी जिंदगी हैं। अभिनय ही मेरी सांस हैं। आजकल आप मुझे स्टार प्लस पर प्रसारित सीरियल इस प्यार को क्या नाम दूं में भी देख सकते हैं। मैं इसमे टनाटन एक्टिंग कर रहा हूँ।

बहुत जल्द आप मुझे की नए शो में भी देखेंगे। कई TVC में भी आप मुझे बढ़िया किरदार करते हुए देखेंगे।

मैं सच कहूं तो मेरा मन मिट्टी, गांव, संस्कार, संस्कृति से जुड़ी फिल्मों में एक्टिंग करना चाहता हैं, जैसे सिटी लाइट, पान सिंह तोमर, मांझी जैसी फिल्में मेरी मनपसंद फिल्म है और ऐसी ही फिल्म करना चाहता हूँ।

और सौ में सीधी एक बात बोलू मैं की मुझे एक्टिंग के अलावा और कुछ नहीं आता और मरते दम तक एक्टिंग ही करना चाहता हूँ।

आप सबका प्यार आशीर्वाद यूं ही बना रहे दोस्तों।

बहुत जल्द मेरे किसी फिल्म के प्रमोशन पर आपसे मुलाकात होगी इसी उम्मीद के साथ आपका अपना प्यार दोस्त संजय चौधरी आपसे विदा लेना चाहता हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *