Struggler (उपन्यास) 3 : मायानगरी मुंबई

2
182

 मुंबई की माया को कोई आज तक समझ नहीं पाया हैं। माया नगरी हैं यह माया की नगरी……जो सबको अपने भ्रमजाल में उलझाए हुए हैं……..फँसाये हुए हैं…….मुंबई नगरिया तो जैसे जादू की कोठरी भी हैं। इस कोठरी में कोई प्रवेश द्वार नहीं बना है इसलिए इस नगरी में प्रवेश के पहले काफी भटकना पड़ता हैं। बहुत भटकने के बाद कोई न कोई अदृश्य सुराख मिल ही जाता हैं जहां से बड़ी मशक्कत के बाद जादू की कोठरी वाली मुंबई की माया नगरी में घुसा जा सकता हैं। बाहर से कोठरी और अंदर से एक विशाल दुनिया।।।

Mumbai

इस दुनिया के सारे वाशिंदे आसमान को चूमने के लिए कूदते फांदते रहते हैं । किसी अपरा शक्ति के द्वारा यहां के लोगों की भावनाओं का संचालन होता रहता हैं। मृगतृष्णा वाली प्यास से व्याकुल हैं सब यहां । कस्तूरी की सुगंध से मस्त बावले रहते हैं यहां के लोग शबनम की बूंदों को चाटकर असीम तृप्ति का अनुभव करते हैं। अप्रतिम आनंद प्रदान करनेवाली अनुभूति। मायावी तिलस्मों की कोठरी है यह मुंबई की फिल्मी माया नगरी।।।।
******************************

Previous part :-

Struggler (उपन्यास) 2 : जीवन एक संघर्ष

Next part :-

Struggler (उपन्यास) 4 : compromise

 

2 COMMENTS

  1. Mai ekk actor huu .. btt mai bhi ish struggle bhari jindgi se bhut preshan ho gya huu .. mumbai ki maya nagri ki dhool mai kb mill jaaunga pta nhi . Ab to kuch smjh nhi aata .. shiway mout kee .ye hi ekk actor ki life h aaj pta chl rhaa h

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here