Struggler (उपन्यास) 5 : जीवन क्या है ?

3
372

आर्थिक असुरक्षा एवं कुछ न कर पाने का भय एक मुम्बईयाँ फिल्मी स्ट्रगलर को बार बार यह सोचने के लिए विवश करता हैं कि जीवन क्या हैं ???? अपने आप मे अधूरा और एक डरावना प्रश्न……यक्ष प्रश्न !!!!!

जीवन क्या हैं ? प्रत्येक आदमी अपनी जिंदगी को ढ़ोता है और अपने अनुभव के आधार पर सोचता हैं…………जीवन क्या है ? किसी ने जीवन जीने को जंग जीतना कहा हैं तो किसी ने जीवन को संगीत की उपमा दी हैं। किसी ने जीवन को महज पागलपन कहा है तो किसी ने जीवन को ईश्वर की अनमोल सौगात से तुलना की है। किसी ने जीवन को अभिशाप माना है तो किसी ने जीवन जीने की कला को एक महान वरदान कह कर जीवन को गौरान्वित किया हैं। अपनी अपनी सोच…..अपनी अपनी परिभाषा…..अपनी अपनी दृष्टि से जीवन को पहचानने का अनुभव…………आखिर ये जीवन है क्या ????????

मात्र जीवन यापन की जुगाड़ में छोटी मोटी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए अपने आपको होम कर देने वाले बहुतेरे मिल जाएंगे लेकिन उन लोगों की संख्या बहुत कम हैं जो जानते हैं कि येन केन प्रकारेण अपने रोजमर्रा आवश्यकताओं की पूर्ति के जुगाड़ ही जीवन नहीं है बल्कि जीवन का दायरा ऐसी सोच से बहुत ऊपर हैं। जीवन अमूल्य हैं। जीवन अनमोल हैं। दुनिया के किसी भी बाजार में इसका मोल भाव नहीं किया जा सकता हैं। जेल में उम्र कैद की सजा काट रहे कैदी या अस्पताल में जीवन मौत से जूझ रहे कैंसर पीड़ित से पूछिए की उनके लिए जीवन का एक एक पल कितना अनमोल हैं ? कितना प्यारा हैं ?  और सबसे बड़ी विडंबना यह कि जीवन का अंतिम सत्य है……….मृत्यु। आम आदमी के लिए मृत्यु एक महान आश्चर्य का विषय हैं। यदि उत्पत्ति और विनाश की मध्यावस्था ही जीवन है तो जीवन की सार्थकता किसमें हैं ?????

एक स्ट्रगलर के लिए जीवन की सार्थकता उसके सपनों के पूर्ति होने में हैं जब वो बड़ी बड़ी फिल्मों में अभिनय कर रहा हो, बड़े बड़े निर्माता निर्देशक अभिनेताओं के साथ काम कर रहा हो,अखबार टी वि होर्डिंग सब जगह वह छाया हो, देश विदेश में उसके प्रशंशक हो जो उसके अभिनय का गुणगान करे, उसके व्यक्तित्व का यशोगान करे, आलीशान बंगला हो, महंगी कारें हो, करोड़ो रूपये बैंक बैलेंस हो, भोग विलास की सारी चीजें एक चुटकी पर उपलब्ध हो , दुनिया के बड़े बड़े अवार्ड रिवॉर्ड मिलता रहे…………….” लाइफ लाइव रहे ” इसी में एक स्ट्रगलर को अपनी जीवन की सार्थकता महसूस होती हैं। लेकिन ऐसे लाइफ की लाइवनेस क्या सभी स्ट्रगलरों की किस्मत में होती है क्या ???????????

*****************************

Previous part :-

Struggler (उपन्यास) 4 : compromise

Next part :-

Struggler (उपन्यास) 5 : जरूरत , सहारा , मार्गदर्शन ।

 

3 COMMENTS

  1. Dear .sir my to Hindi mehi bolunga .sir hamne aapke sari video’s dhikh aur muje us video s se bahut adhik jankari meli sir aur yek bat my buthut chutese gave se ho liken my 2 sal se Mumbai

    me ho aur airport me Jo bhe karta hu aur .marol naka .andhire me he ham ne rome liya hai liken but deinose parishan tha ke films line me prvesh Ky se kari .to sir ishwarki. Kerpase aapka .chainal .chuchuka murabaa se hogy sir itnahi kahnahai ki mera no 7057054310,piz whatsap grup me dalo qukin my audition de sako .sir aapka bada iisan hoga mi yeisley bolrahuke mi me aap ka o gala video dhikha tha .Jo logoney aapku parishan karke rkha tha.
    to plz rajesh dube sir .I’m big fan .7057054310 plz

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here