Struggler (उपन्यास) 6 : जरूरत , सहारा , मार्गदर्शन ।

अंगूर की बेल को सूखे बांस का सहारा चाहिए। अंगूर की लता बेल बांस को लपेटते हुए धरती से ऊपर चार पांच फीट पर छितरा जाती हैं और समय आने पर उसमे अंगूर के दाने लगने शुरू हो जाते है जो बाद में गुच्छे गुच्छे में लटक जाते हैं बशर्ते अंगूर की जड़ मिट्टी को बहुत गहराई से जकड़े रहे हैं।
पर्वतारोही को हिमालय पर चढ़ने के लिए मजबूत रस्सी की जरूरत होती हैं। मजबूत रस्सी के साथ यदि पर्वतारोही की कलाई भी मजबूत है तो ऊंचे से ऊंचा पर्वत भी पर्वतारोही के कदमों तले आ जाता हैं।
नए नए स्ट्रगलर जिन्हें मार्गदर्शन करने वाला कोई गॉडफादर नहीं होता उनके लिए सीनियर स्ट्रगलरों का सहयोग एवं मार्गदर्शन बहुत ही फायदेमंद साबित होता हैं। पुराने स्ट्रगलरों का भोगा हुआ कष्टकारी अनुभव नए स्ट्रगलरों के लिए एक ” लेशन ” बन जाता हैं। पुराने स्ट्रगलरों की बनाई हुई पहचान से नए स्ट्रगलरों के कई काम आसानी से बन जाते हैं। आवश्यकता ये हैं कि दोनों के मन मे एक दूसरे के प्रति सुखद सद्भावना हो जैसे अंगूर की लता बेल का बांस के साथ होता है, पर्वतारोही का मजबूत रस्सी से होता हैं। बिना सहयोग, मार्गदर्शन के मुम्बई का कोई भी स्ट्रगलर अपनी आन, बान, शान, नाम, पहचान का झंडा गाड़ ही नहीं सकता !!!!
******************************

Previous part :-

Struggler (उपन्यास) 5 : जीवन क्या है ?

Next part :-

Struggler (उपन्यास) 6 : तकदीर

 

Comments 3

  • bilkul sahi h sir bas mujhe bhi aapki sahayta ki zarurat h plz ap mere liye wo rassi banenge kya fir me bhi us parwatarohi ki tarah pahad chad sakunga plz plz plz sir hepl me.
    my mobile no. +965-99632257
    and send me your no. sir
    me aapse milna chahta hu or aapka aashirwad lena chahta hu.

  • Sir,you are best gaeidens for me .

  • Sir,we are ceriyr making gaidiyns .
    You are best adviger.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *